UP TET 2023: यूपी टीईटी सर्टिफिकेट की मान्यता को लेकर बड़ा बदलाव, अभ्यर्थी हुए खुश

यदि आप भी उत्तर प्रदेश राज्य के निवासी है तथा आपने भी उत्तर प्रदेश यूपी टेट परीक्षा अर्थात Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test में सम्मिलित होने का निर्णय ले लिया है, तो फिर आज के हमारे इस पोस्ट के माध्यम से आपको इससे संबंधित अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त होगी।

उत्तर प्रदेश राज्य के द्वारा यह परीक्षा ली जाती है और इस परीक्षा के माध्यम से सरकार योग्य शिक्षकों का चयन करती है। प्रत्येक व्यक्ति जिसका स्वप्न शिक्षक बनने का है। वह इस परीक्षा के माध्यम से अपने सपनों को पूर्ण कर सकता है  

UPTET परीक्षा से संबंधित प्रत्येक आवश्यक जानकारी आपको आज के हमारे इस पोस्ट के माध्यम से प्राप्त हो जाएगी। 

यह परीक्षा क्यों?

UPTET परीक्षा उत्तर प्रदेश राज्य में आयोजित करवाई जाती है। इस परीक्षा में योग्य उम्मीदवारों को शिक्षक बनने का अवसर प्रदान किया जाता है।

सर्वप्रथम तो इस परिक्षा में बेठने के लिए कुछ पात्रताएं निर्धारित की गई है। जिसके विषय में भी जान लेना काफी ज्यादा आवश्यक है।

UPTET की परीक्षा के माध्यम से योग्य उम्मीदवारों का चयन किया जाता है। उत्तर प्रदेश राज्य में शिक्षक बनने का अवसर प्रदान किया जाता है। इस परीक्षा में मुख्य रूप से 2 पेपर होते हैं।

आप किसका चयन करेंगे?

जैसा कि हमने बताया कि इस परीक्षा में 2 पेपर होते हैं। प्रथम पेपर उन उम्मीदवारों के लिए आयोजित करवाया जाता है, जो कक्षा 1 से लेकर के कक्षा 5 तक के छात्रों को पढ़ाने हेतु शिक्षक बनने की इच्छा रखते हैं।

तथा पेपर 2 उन उम्मीदवारों के लिए होता है, जो कक्षा 6 से लेकर के कक्षा 8 तक के छात्रों को पढ़ाने हेतु शिक्षक बन पढ़ाने की इच्छा रखते हैं। उम्मीदवार अपनी इच्छा अनुसार इन दोनों पेपर में से किसी एक का अथवा दोनों का भी चयन कर सकते हैं।

यदि उम्मीदवार कक्षा 1 से लेकर कक्षा 5 के छात्रों के साथ-साथ कक्षा 6 से लेकर की कक्षा 8 तक के छात्रों को पढ़ाने की इच्छा रखता है, तो फिर उन्हें पेपर एक के साथ साथ पेपर दो भी देना होगा।

कैसे प्रश्न होंगे?

इस परीक्षा को पास करने के लिए इस विषय में विचार कर लेना भी आवश्यक है कि इसमें किस प्रकार के कितने प्रश्न पूछे जाएंगे? तो इसकी जानकारी भी आपको हमारे इस पोस्ट के माध्यम से हो जाएगी।

UPTET Paper-1

सर्वप्रथम तो बाल विकास विषय के 30 प्रश्न पूछे जाएंगे, यह 30 प्रश्न आपको 30 अंक दिलवाने हेतु सक्षम सिद्ध होंगे। इसके पश्चात भाषा प्रथम हिंदी में भी 30 प्रश्न होंगे, जो आपको 30 अंक प्रदान करेंगे। अर्थात प्रत्येक प्रश्न आपको एक अंक प्रदान करेगा।

भाषा द्वितीय में अंग्रेजी अथवा उर्दू या फिर संस्कृत में से अभ्यर्थी अपनी सुविधा अनुसार किसी का भी चयन कर सकता है। इसमें भी कुल 30 प्रश्न पूछे जाएंगे, जो कि 30 अंकों के होंगे।

गणित के 30 प्रश्न पूछे जाएंगे और यह भी आपको 30 अंक प्रदान करेंगे। पर्यावरण अध्ययन के कुल 30 प्रश्न पूछे जाएंगे। इसके माध्यम से आपको 30 अंक मिलेंगे। अर्थात कुल 150 अंक के प्रश्न आपसे इस परीक्षा में पूछे जाएंगे।

UPTET Paper-2 

इसमें प्रथम विषय बाल विकास का होगा। जो कि 30 अंकों का होगा और इसमें कुल 30 प्रश्न होंगे। तत्पश्चात भाषा प्रथम हिंदी के कुल 30 प्रश्न पूछे जाएंगे। जो कि अभ्यर्थी को 30 अंक प्रदान कर सकते हैं।

तत्पश्चात द्वितीय में अंग्रेजी अथवा उर्दू या फिर संस्कृत के 30 प्रश्न पूछे जाएंगे। जो कि 30 अंक प्रदान करेंगे। तत्पश्चात गणित है या फिर विज्ञान या फिर सामाजिक विज्ञान की परीक्षा ली जाएगी। इसमें कुल 60 अंक प्रदान किए जाएंगे इसमें 60 प्रश्न होंगे।

अर्थात प्रत्येक प्रश्न आपको एक अंक प्रदान कर सकता है। मतलब की कुल प्रश्नों की संख्या 150 है तथा 150 अंक आपको यह प्रश्न प्रदान कर सकते हैं।

UPTET परीक्षा की वैधता

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा की वैधता को बढ़ा दिया गया है और इस कार्य में सर्वाधिक महत्वपूर्ण योगदान उत्तर प्रदेश राज्य के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी का है।

आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा इसकी वैधता को बढ़ा करके आजीवन कर दिया गया है। अर्थात जो भी उम्मीदवार एक बार UPTET की परीक्षा पास कर लेंगे। उन्हें कुछ सालों के पश्चात UPTET परीक्षा को पुनः से देने की आवश्यकता नहीं होगी।

पहले UPTET परीक्षा की वैधता केवल 5 वर्षों की ही थी। वैसे तो उम्मीदवार अपनी इच्छा अनुसार अपनी अंकों को और अधिक बढ़ाने के लिए जितनी बार चाहे उतनी बार इस परीक्षा में बैठ सकते हैं।

पासिंग मार्क्स के बारे में भी जाने 

वैसे तो UPTET की परीक्षा पास करने के पश्चात सरकारी अध्यापक बनने का अवसर प्राप्त होता है। किंतु इस परीक्षा में पास होने के लिए भी एक निश्चित अंक का निर्धारित किया गया है।

अर्थात यदि आप ओबीसी कैटेगरी से है, तो फिर आपको इस परीक्षा में पास होने के लिए 90 अंक से लेकर के 150 अंक तो हर हाल में लाने पड़ेंगे। तभी आप को इस परीक्षा में पास माना जाएगा।

इसके अतिरिक्त यदि आप एसटी/एससी अर्थात अनुसूचित जाति या फिर अनुसूचित जनजाति से है, तो फिर आपको इस परीक्षा में पास होने के लिए 80।5 से लेकर के 150 अंक के मध्य में नंबर लाने पड़ेंगे। तभी आप इस परीक्षा को पास कर शिक्षक बन सकते हैं।

नहीं होगी नेगेटिव मार्किंग 

वैसे तो अधिकतम कॉम्पिटेटिव एग्जाम्स में नेगेटिव मार्किंग होती है। किंतु यदि आप उत्तर प्रदेश राज्य में होने वाली UPTET परीक्षा देने की योजना में है, तो फिर आपको इस विषय में पता होना चाहिए कि इसमें नेगेटिव मार्किंग नहीं होने वाली है।

इस परीक्षा में 150 प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रत्येक प्रश्न का सही उत्तर आपको एक अंक प्रदान करेगा। आपसे 150 प्रश्न पूछे जाएंगे और यह सभी प्रश्न बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे।

किंतु यदि आप इससे संबंधित अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इसके लिए आप उसके अधिकारिक वेबसाइट में भी विजीट कर सकते हैं। जिसके लिए आप https://updeled.gov.in/ का प्रयोग कर सकते हैं।

निष्कर्ष

आज के इस पोस्ट में हमने आप सभी लोगों के समक्ष UPTET परीक्षा से संबंधित काफी सारी आवश्यक जानकारियां उल्लेखित की है। हमने यह भी बताया है कि यह परीक्षा उम्मीदवारों को शिक्षक बनने का शुभ अवसर प्रदान करती है।

x