EPS Pension Scheme Rules August : मोदी सरकार का तोहफ़ा, कई गुना हुई EPS पेंशन, जानें डिटेल

EPS Pension Scheme Rules August : निजी क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए एक बड़ी राहत की संभावना है। यह संभावना है कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation) में योगदान करने वाले वेतनभोगी व्यक्ति की पेंशन में कई गुना वृद्धि हो सकती है।

इस मुद्दे पर ईपीएफओ बोर्ड के पास जल्द ही एक फैसला हो सकता है। यह माना जा रहा है कि कर्मचारी पेंशन योजना-95 के तहत पेंशन में 333% की बढ़ोतरी हो सकती है।

EPS Pension Scheme Rules August

कर्मचारी पेंशन योजना (Employee Pension Scheme) में अधिकतम पेंशन 15 हजार रुपये तय की गई है, इसके पश्चात् यह निष्क्रिय कर दी जाती है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation) में, यदि मूल वेतन 15,000 रुपये प्रति माह से अधिक है, तो भी पेंशन (Pension) की गणना अधिकतम 15,000 रुपये वेतन पर ही की जाएगी।

कई गुना बढ़ सकती है Employee Pension Scheme पेंशन

कर्मचारी पेंशन योजना (Employee Pension Scheme) के पेंशन मामले की सीलिंग का निर्णय सुप्रीम कोर्ट की बेंच के समक्ष स्थित है। इस मामले को कई स्तरों पर सुना गया है। यूनियन ने निरंतर यह मांग उठाई है कि पेंशन की सीमा को समाप्त किया जाए।

यदि न्यायालय कर्मचारियों के पक्ष में निर्णय देता है, तो पेंशन की गणना अंतिम वेतन यानी उच्च वेतन वर्ग पर की जा सकती है।

इस निर्णय से कर्मचारियों की पेंशन में 300% तक की वृद्धि की आशंका है। ईपीएस के अंतर्गत पेंशन प्राप्त करने की शर्त है कि कर्मचारी को कम से कम 10 वर्षों तक कर्मठता से नियोजित रहना चाहिए, जो कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation) में योगदान करता है।

साथ ही, 20 साल की सेवा पूरी करने पर 2 साल का अतिरिक्त महत्वपूर्ण वजन मिलता है। छत को हटाने से यहाँ तक कि इससे महत्वपूर्ण परिणाम हो सकते हैं।

EPS-95 में कैसे बढ़ेगी आपकी पेंशन

वर्तमान नियमों के अनुसार, यदि कोई कर्मचारी अंग्रेजी में अंग्रेजी में “Employees’ Provident Fund Organisation” के तहत काम कर रहा है और 1 जून 2015 से नौकरी कर रहा है, तो उसके द्वारा पूरी की गई 14 साल की सेवा के बाद पेंशन प्राप्त करने की इच्छा होने पर, उसकी पेंशन की गणना केवल 15,000 रुपये के ही आधार पर की जाएगी, चाहे उसकी मूल वेतन 20,000 रुपये या 30,000 रुपये हो।

जुन 2, 2030 से, पुराने फॉर्मूले के अनुसार, कर्मचारी को 14 साल की सेवा पूरी होने पर लगभग 3000 रुपये की पेंशन प्राप्त होगी। इसके लिए EPS पेंशन की गणना का सूत्र इस तरह होगा: (सेवा इतिहास x 15,000/70)। हालांकि, यदि पेंशन (Pension) की योजना सीमा समाप्त कर दी जाती है, तो उसी कर्मचारी की कर्मचारी पेंशन योजना (Employee Pension Scheme) में पेंशन में वृद्धि हो सकती है।

उदाहरण संख्या 1 : EPS Pension Scheme

चलिए मान लें कि किसी कर्मचारी की मासिक वेतन (बेसिक सैलरी+डीए) 20,000 रुपये है। पेंशन की गणना को प्रयुक्त फार्मूले के आधार पर करने पर उनकी पेंशन 4,000 रुपये होगी (20,000X14)/70 = 4,000 रुपये।

इसी प्रकार, जैसे-जैसे वेतन बढ़ेगा, कर्मचारी पेंशन योजना के तहत वे उसका अधिक लाभ उठा सकेंगे। इस तरीके से, ऐसे व्यक्तियों की कर्मचारी पेंशन में 300% की वृद्धि की संभावना है।

EPS Pension Scheme : उदाहरण संख्या -2

मान लें कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation) में एक कर्मचारी का 33 साल की नौकरी है। उनकी आखिरी बेसिक सैलरी 50,000 रुपये है! पहले, मौजूदा व्यवस्था के तहत EPS पेंशन की गणना अधिकतम 15,000 रुपये वेतन पर ही की जाती थी। इस तरीके से (फॉर्मूला: 33 साल+2= 35/70×15,000) पेंशन केवल 7,500 रुपये थी। यह मौजूदा व्यवस्था में अधिकतम पेंशन थी।

लेकिन, कर्मचारी पेंशन योजना (Employee Pension Scheme) पेंशन की सीमा हटाने के बाद, पेंशन को अंतिम वेतन के हिसाब से जोड़ने से वे 25,000 रुपये की पेंशन प्राप्त करेंगे। इसका मतलब है कि (33 साल+2= 35/70×50,000=25,000 रुपये)।

Employees’ Provident Fund Organisation : 333 प्रतिशत वेतन में वृद्धि होगी

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation) के नियमों के अनुसार, यदि कोई कर्मचारी निरंतर 20 वर्ष या उससे अधिक समय तक EPF में योगदान करता है, तो उसकी सेवाओं में दो साल जोड़े जाते हैं।

इस प्रकार, जब 33 वर्ष की सेवा पूरी होती है, तो पेंशन की गणना 35 वर्ष के लिए की जाती है। इस परिणामस्वरूप, उस कर्मचारी की वेतन में 333 फीसदी की वृद्धि हो सकती है! कर्मचारी पेंशन योजना (Employee Pension Scheme) के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध है!

निष्कर्ष

इस प्रक्रिया के अनुसार, जब कोई कर्मचारी 20 साल से अधिक का समय EPF में निवेश करता है, तो उसकी सेवाओं में 2 साल की जोड़ होती है। इसका मतलब है कि जब कर्मचारी की कुल सेवा 33 साल पूरी हो जाती है, तो पेंशन की गणना 35 साल की सेवा के आधार पर की जाती है।

इस प्रकार, कर्मचारी की सैलरी में 333 फीसदी की वृद्धि हो सकती है! कर्मचारी पेंशन योजना (Employee Pension Scheme) के विषय में पूरी जानकारी उपलब्ध है!

x