7th Pay Commission: अब फिटमेंट फैक्टर से 3 गुना ज्यादा बढ़ जाएगा केंद्रीय कर्मचारियों का वेतन, जानिए पूरा कैलक्युलेशन

7th Pay Commission: 2016 में, केंद्रीय कर्मचारियों के लिए एक महत्वपूर्ण समाचार आया जब उनकी सैलरी में एक बड़ा इजाफा किया गया। इसी साल, 7वीं वेतन आयोग (7th Pay Commission – सातवां CPC) की शुरुआत हुई। 7वीं CPC के सुझावों के आधार पर, केंद्रीय कर्मचारियों की न्यूनतम सैलरी को बढ़ाने के लिए फिटमेंट फैक्टर का प्रावधान किया गया। इस फिटमेंट फैक्टर की बदौलत, केंद्रीय कर्मचारियों की न्यूनतम सैलरी को सीधे 6000 रुपए से 18000 रुपए तक बढ़ा दिया गया।

फिटमेंट फैक्टर बेसिक सैलरी का 2.57 गुना वर्तमान में है, लेकिन 2017 से इसे तीन गुना करने की मांग हो रही है। हालांकि, इस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। अगर फिटमेंट को तीन गुना किया जाता है, तो केंद्रीय कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 26000 रुपए से अधिक होगा।”

बेसिक सैलरी पर फिटमेंट फैक्टर

कॉम्प्यूटर जी (CG) कर्मचारियों की सैलरी तय करने में, फिटमेंट फैक्टर का सबसे महत्वपूर्ण प्रभाव होता है। 7वें वेतन आयोग के सुझावों के अनुसार, केंद्रीय कर्मचारियों की कुल वेतन फिटमेंट फैक्टर और मूल वेतन के आधार पर निर्धारित होती है। इसका मतलब है कि केंद्रीय कर्मचारियों की वेतनवृद्धि तीन गुना की बजाय ढाई गुना के हिसाब से की जाती है।

Fitment Factor का क्या रोल है?

  • 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार, वित्तपोषण का फैक्टर 2.57 है, जिससे कर्मचारियों को लाभ होता है।
  • केंद्रीय कर्मचारियों की बेसिक सैलरी को DA, TA, और HRA के साथ फिटमेंट फैक्टर 2.57 से मिलाकर तैयार किया जाता है।
  • उदाहरण के लिए, 18,000 रुपये की बेसिक सैलरी पर फिटमेंट फैक्टर 2.57 से होगा 46,260 रुपये।
  • कर्मचारियों ने फिटमेंट फैक्टर को 3 करने की मांग की है, जो उनके लिए लाभदायक होगा।
  • इस बढ़ते फैक्टर से कर्मचारियों की सैलरी और आवास की भत्ते में वृद्धि होगी।

DA कैलकुलेशन 7th Pay Commission

  1. केंद्रीय सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में महंगाई भत्ता (DA), प्रवास भत्ता (TA), और गृह भत्ता (HRA) शामिल होते हैं।
  2. DA केंद्रीय कर्मचारियों को महंगाई के परिपर्ण मूल्यों से सुरक्षित रखने के लिए प्रदान किया जाता है।
  3. इसे वर्ष में दो बार अंशुलिपि सम्प्राप्ति के रूप में देना जरूरी होता है।
  4. पहली बार DA जनवरी से जून तक और दूसरी बार जुलाई से दिसंबर तक निर्धारित होता है।

EPF और ग्रेच्युटी योगदान 7th Pay Commission

  • प्रदत्त धन (PF) और ग्रेच्युटी कंट्रीब्यूशन को बेसिक सैलरी और DA के आधार पर निर्धारित किया जाता है।
  • CTC केंद्रीय कर्मचारी की टेक होम सैलरी को बाद में निर्धारित करता है।
  • इन योजनाओं से संबंधित योग्यता और नियमों को पूरा करना महत्वपूर्ण है।
  • सैलरी और कंट्रीब्यूशन की निर्धारण में कंपनी के नियमों का पालन करें।
  • PF और ग्रेच्युटी के माध्यम से आवश्यक धन संचयन का मार्ग तय करें।
  • सरकारी विधियों और निर्देशों का पालन करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • धन निवेश के विचारों को समझने और सलाहकार से परामर्श लेने का विचार करें
हमारे ग्रुप में जुड़ेClick Here
आधिकारिक वेबसाइटClick Here

Disclaimer :- हम जानते हैं कि सोशल मीडिया पर बहुत सी ऐसी खबरें वायरल होती हैं। इसलिए हम सभी को सतर्क रहने की सलाह देते हैं। हम चाहते हैं कि आप आधिकारिक स्रोतों से जाँच करें और खबर की सटीकता को सुनिश्चित करें। क्योंकि यहां दी गई जानकारी के लिए “wdeeh.com” कोई ज़िम्मेदारी नहीं स्वीकार करता है।

x