Headlines

Agniveer Scheme: ट्रेनिंग से लौटे अग्निवीर जवान मनीष का हुआ स्वागत, लगे भारत माता के जयकारे

Agniveer manish kumar giddi

Agniveer Scheme: अग्निवीर में चयनित गिद्दी, हजारीबाग के जवान मनीष कुमार, पिता चंद्रशेखर प्रसाद गुप्ता को स्थानीय लोगों ने गर्मजोशी से स्वागत किया। गिद्दी ‘ख’ पंचायत की मुखिया उषा देवी ने माला पहनाकर मनीष कुमार का स्वागत किया, जिससे गिद्दी चौक में भारत माता के जयकार गूंजे। इस अवसर पर मनीष कुमार गिद्दी चौक के प्रथम अग्निवीर जवान के रूप में परिचित हुए। उनके पिता चंद्रशेखर प्रसाद गुप्ता की गर्वनुवादी भावना को देखकर समूचे चौक में भावुकता फैली।

आरएफएफ फिजिकल एकेडमी गिद्दी में तैयारी की थी

ट्रेनिंग के दौरान मनीष कुमार ने मध्य प्रदेश और गोवा में आठ महीने बिताए। यहाँ वे अपनी दृढ़ता और समर्थन से संजीवित हुए। इससे पूर्व, उन्होंने आरएफएफ फिजिकल एकेडमी गिद्दी में कड़ी मेहनत की। वहां उन्होंने अपने शारीरिक और मानसिक दृढ़ता को मजबूत किया। उनकी लगभग आठ महीनों की मेहनत और संघर्ष ने उन्हें भारतीय सेना (अग्निवीर) में भर्ती करने में सफलता दिलाई। यह उनके जीवन की सफलता की नई शुरुआत है।

एकेडमी के कोच राहुल महली ने बताया

  • राहुल महली ने बताया कि पिछले दो सालों से मनीष कुमार वहीं एकेडमी में आर्मी की तैयारी कर रहे थे।
  • उनकी सफलता से गिद्दीवासियों में ख़ुशी की लहर छाई है जो उनके प्रयासों की प्रशंसा कर रहे हैं।
  • इनकी सफलता से युवाओं में देशभक्ति की भावना जागृत होगी।
  • उन्हें सेना में भर्ती होने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

ये भी देखें :-Viral Video: क्या आपने कभी ट्राय की है तड़के वाली चाय? वायरल वीडियो में जनता की जुबां से निकले मजेदार कमेंट्स!

स्वागत करने वाले में मुख्य रूप से थे उपस्थित

  • मुख्य रूप से समाजसेवी राजेश सिंह, विकास सिंह, चंदन सिंह और संतोष कुमार थे।
  • समूह में शामिल थे कुमुद रंजन, सौरव, अजय, अक्षत और अभिषेक।
  • भीड़ में थे निशांत, अंकुश, रुपेश, प्रेम और सनी भी।
  • उनके साथ थे विशाल, राजा, अंशु और मनोज भी।
  • समूह में शामिल थे जितेंद्र, अनिकेत, अनीता, ख़ुशी और निशा भी।
  • समूह की महिला सदस्यों में अंशु कुमारी भी शामिल थीं।
  • उनकी मौजूदगी ने सामाजिक सेवाओं में नई ऊर्जा भरी।
  • समूह ने सामाजिक उत्थान के लिए साथ में कठिन परिस्थितियों का सामना किया।
  • इनकी भीड़ ने साथ मिलकर समाज में जागरूकता फैलाई।
  • वे साथ मिलकर समुदाय की समृद्धि और समाज के विकास के लिए कार्य करते रहे।

इसे भी देखें :- ENG vs AFG Pitch Report: बल्लेबाजों का होगा धूम धड़ाका या गेंदबाजों का चलेगा लक? जानें किसके हक में रहेगी पिच

Agniveer Scheme -जानिए क्या है अग्निपथ स्कीम?

इस योजना के अंतर्गत भर्ती होने वाले सेना के जवान को ‘अग्निवीर’ के नाम से पुकारा जाएगा। इनमें से 25 प्रतिशत जवानों को उनकी कौशलता के आधार पर स्थायी रूप से नियुक्ति दी जाएगी। स्थायी कैडर का हिस्सा बनने के बाद, अग्निवीरों को बाकी जवानों की तरह पेंशन और अन्य सुविधाएं मिलेंगी।

भारत सरकार ने अग्निपथ स्कीम को सेना में 4 साल के लिए बहाल करने का विचार रखा है। इस योजना के माध्यम से सेना को नवाचार की दिशा में आगे बढ़ने का लक्ष्य है। यह स्कीम सेना की औसत उम्र को 26 साल करने की समीक्षा कर रही है, ताकि युवाओं को नौकरी का अवसर मिल सके। साथ ही, नौकरी से बाहर रहने वालों को तकनीकी योग्यता प्राप्त करने का भी मौका होगा।

इस योजना के तहत, सेना में नौकरी करने वाले युवाओं को 4 वर्ष की सेवा के बाद भी संगठन में रिटेन किया जाएगा। इससे उन्हें निश्चितता का भी सामर्थ्य मिलेगा। इस योजना के अंतर्गत, उम्मीदवारों को सरकार द्वारा एक मुश्त राशि के साथ-साथ तकनीकी योग्यता प्राप्त करने का अवसर भी प्रदान किया जाएगा। यह योजना न केवल सेना की बल्कि युवाओं की रोजगार संबंधी जरूरतों को ध्यान में रखकर तैयार की गई है। साथ ही, नियमित संवर्ग में भर्ती होने का मौका भी दिया जाएगा।

हमारे ग्रुप से जुड़ेClick Here
आधिकारिक वेबसाइटClick Here

Agniveer Scheme -अग्निपथ योजना भर्ती प्रक्रिया क्या?

  • इस योजना में कोई नया बदलाव नहीं किया गया, वही पुरानी प्रक्रिया अपनाई जाएगी।
  • आर्मी के पुराने तरीके का ही उपयोग किया जाएगा, जिसमें शारीरिक परीक्षण और लिखित परीक्षा शामिल होगी।
  • अग्निपथ पात्रता मानदंड के अनुसार, आवेदन करने वालों की आयु 17 साल 6 महीने से 21 साल तक होगी।
  • अग्निपथ भर्ती योजना में शामिल होने पर युवाओं को 4 वर्षों के लिए स्शस्त्र सेवा बल में काम करने का मौका मिलेगा।
  • यह योजना महिलाओं को भी सेना में भर्ती होने का अवसर देती है,
  • जिससे वे सेना के तीनों प्रमुख अंगों में शामिल हो सकती हैं।
  • युवा सेना में थल सेना, वायु सेना और नौ सेना में सेवा कर सकते हैं।
  • अग्निपथ भर्ती योजना की खासियत यह है कि इसमें समान अवसर पुरुषों और महिलाओं के लिए है।
  • इस योजना में युवाओं को सेना की ट्रेनिंग पीरियड और अनुसारिक नियमों के अनुसार भर्ती किया जाएगा।

Disclaimer :- हम जानते हैं कि सोशल मीडिया पर बहुत सी ऐसी ख़बरें वायरल होती हैं, इसलिए हम सभी को सतर्क रहने की सलाह देते हैं ! हम चाहते हैं कि आप आधिकारिक स्रोतों से जाँच करें और ख़बर की सटीकता को सुनिश्चित करें, क्योंकि यहाँ दी गई जानकारी के लिए “wdeeh.com” कोई ज़िम्मेदारी नहीं स्वीकार करता है !

x